जाने क्या चाहे मन…

कुछ दिनों सेमन आतुर रहता हैसमझ नहीं आताआखिर यह चाहता क्या हैकुछ सवालों के जवाबढूंढता रहता हैभूले बिसरे यादों सेजबरन आंखें चार करता हैअधूरी कहानियों के अंतबूझता रहता हैआदतन खोया रहता हैसूखे ज़ख्मों कोकुरेदता रहता हैकोई इससे पूछे ज़राआखिर यह माजरा क्या हैइसकी लाचारी पेदिल भर आता हैअब न तो इसका पागलपन सहा जाता हैन…

Read More

Micropoetry#82

Read More

घर घर में कैद हैं…

घर घर में कैद हैंमाँ की बेताबियाँ अनेक हैंबाबा की तन्हाईयाँ ढेर हैंदीदी के सपने सरफ़रोश हैं…*घर घर में कैद हैंख्वाहिशें बेचैन हैंदिल में रंजिशें खामोश हैंआपसी शिकवे हर रोज़ हैं…*घर घर में कैद हैंहसरतें बेख़ौफ़ हैंमनमर्ज़ियों का शोर हैबगावतों का शहर है…

Read More

पलटवार

यूँ बिन बताए आधी रात आनासब जान चुके हैंपरेशान हो चुके हैंअब शांत हो चुके हैंयूँ खिड़की से सीटियां मारनासब जान चुके हैंपरेशान हो चुके हैंअब हार चुके हैंवक़्त का खेल तो देखोकिस्मत पलटवार कर गयीअब जो जा चुकी हो तो सुनोख्यालों मेंयूँ बिन बताए न आया करोभूला चुका हूँ मैंहार चुका हूँ मैंयूँ दिलोदिमाग…

Read More

Micropoetry#72

Read More

दिलासा

शाम को जबपंछी घर लौटेउन्हें देख दिल कोछोटी सी ख़ुशी महसूस हुईमेरा आंगन न सहीकिसीकी तो बग़ियाआज रोशन हुई

Read More

Micropoetry#69

Read More

Micropoetry#68

Read More

ऐ जिंदगी…

पल दो पल ठहरकर कभी हमें भी तो देख जिंदगी तेरी मीठी शरारतों में घुलना बाकी है अभी… पल दो पल पलटकर कभी हमें भी तो देख जिंदगी तेरी नमकीन मस्तियों को चखना बाकी है अभी… पल दो पल मुस्कुराकर कभी हमें भी तो देख जिंदगी तेरी हसीन मधोशियों में बिखरना बाकी है अभी…

Read More

आज रात फिर …

आज रात फिरदरवाजे परतुम्हारी यादोंने दस्तक दीघंटों वे ठहरे रहेकी कब हम उन्हेंभीतर लें, बतियाएंसारी रातचारपाई से लिपटेहमने उन्हें अनसूना कियासारी उम्रइन यादों नेआंखें नम ही तो की हैं

Read More

कभी तो ऐसा हो …

कभी तो ऐसा होमैं कुछ न कहूँऔर तुम सुन लोमैं नज़रें चुराऊँऔर तुम देख लोमैं उम्मीदें छुपाऊँऔर तुम जान लोमैं हसरतें मिटाऊंऔर तुम पढ़ लोकभी तो ऐसा होमैं खुदको रोकूंऔर तुम पहचान लोमैं कतरा बिखरुंऔर तुम थाम लो

Read More

नासमझी…

इश्क़ कुछ इस कदर हुआ उनसेउनकी गलतियां अपनी लगने लगींउनकी खामियां अच्छी लगने लगींउनकी नासमझी की हद तो देखियेवह हमें हीदोषी करार करअनजानों की तरहछोड़ चले ~~~~~ आशा सेठ

Read More

It’s a shame…

It’s a shame

that i want more of you

always more

so much more

like a hungry wolf

Read More

4 am

you’re adrift barely breathing you’re sleeping but your ghosts are lurking although draped in slumber in your head you’re wide awake… For 4 am, is the hour to sire fresh dreams to leave behind all that couldn’t be… For 4 am, is a new bend those haunts need to rest the voices better wait they…

Read More

Micropoetry#59

Read More

रंगी हूँ तुझ में…

जैसे है पीला सूरज का नीला आकाश का हरा बरसात का सफ़ेद सर्दी का जैसे है भूरा धरती का नारंगी शूर का लाल प्रेम का काला झूठ का वैसे ही रंगी हूँ तुझ में सदा के लिए तेरे बिना मेरी पहचान क्या? तुझसे जुदा मेरा अस्तित्व क्या? ~~~~~ आशा सेठ

Read More

Like a river…

I live off your breaths in all those moments when breathing is hard to do I walk in your steps in all those lanes where direction seems obscure I create life from your leftovers when my muse refuses to stop by I look at myself in your eyes when mirrors turn blind You are like…

Read More

Micropoetry#57

Read More