एक कविता…

कल रात उनका खत आया खत में थी एक कविता देर तक उसे पढ़ती रही उनके मंसूबों को टटोलती रही  खुशबू से उस खत के घर महक उठा मानो अभी अभी बरसात होके गया हो रात भर उनकी कविता करवटें लेती रही उनकी कमी गहराती गयी और मैं सुकून से परे रही भोर हुई तो…

Read More

और यूँही…

आज भी मन मचलता हैमाँ के आँचल मेंछिप जाने को दिल करता हैकभी बाबा की गोद मेंसर रखकर रोने को जी करता हैजेब मेरी उन यादों से छलक रही हैजो कभी खुशियां हुआ करती थींआज उनकी नमी सेपैर बोझिल हैंआँखें शुष्क हैंकोई रास्ता साफ़ दिखता नहींकोई मोड़ साथ देता नहींमन करता हैंमाँ-बाबा से कुछ ऐसे…

Read More

मुकाम

ज़िन्दगी अक्सर ऐसे मुकाम पर ले आती हैजहां से आगे बढ़ना मुश्किल लगने लगता हैपीछे छूटे हुए रास्तेसवाल करने लगते हैंतीखे तीर मारने लगते हैंमानो मज़ाक बना रहे होंनुक्स निकाल रहे होंकदम यह सोचके लड़खड़ाने लगते हैं कीजो आज अपने हैंकहीं वह भी छोड़ कर चले गए तोऐसे में कहाँ जायेंगेकिस दरवाज़े खटखटाएंगेकौन अपनाएगागलतियों को…

Read More

जाने क्या चाहे मन…

कुछ दिनों सेमन आतुर रहता हैसमझ नहीं आताआखिर यह चाहता क्या हैकुछ सवालों के जवाबढूंढता रहता हैभूले बिसरे यादों सेजबरन आंखें चार करता हैअधूरी कहानियों के अंतबूझता रहता हैआदतन खोया रहता हैसूखे ज़ख्मों कोकुरेदता रहता हैकोई इससे पूछे ज़राआखिर यह माजरा क्या हैइसकी लाचारी पेदिल भर आता हैअब न तो इसका पागलपन सहा जाता हैन…

Read More

Micropoetry#82

Read More

The Wait

it’s saturday evening I lie huddled in my blanket watch the raindrops beat against my windowpanes enjoy the sweet sound of solace but somewhere around there is a constant hum a sort of whisper a pleading that goes on to get up, escape to lose myself in the madness that’s this city quiet but not…

Read More

Micropoetry#80

Read More

घर घर में कैद हैं…

घर घर में कैद हैंमाँ की बेताबियाँ अनेक हैंबाबा की तन्हाईयाँ ढेर हैंदीदी के सपने सरफ़रोश हैं…*घर घर में कैद हैंख्वाहिशें बेचैन हैंदिल में रंजिशें खामोश हैंआपसी शिकवे हर रोज़ हैं…*घर घर में कैद हैंहसरतें बेख़ौफ़ हैंमनमर्ज़ियों का शोर हैबगावतों का शहर है…

Read More

कुछ हिस्से उन मुलाकातों के…

कुछ हिस्से उन मुलाकातों केवो पीछे छोड़ गए थेउन्हें मैंने अलमारी मेंसंजोकर रखा हैजब किसी रातउनकी कमी खलती हैऔर यादें छेड़तीं हैंउन्ही टुकड़ो कोपलंग पर बिखेर देती हूँकभी उनमें उनकीझलक ढूंढती हूँतो कभीउन खामोशियों की चादर सेकुछ अधूरी हसरतों कोढांक देती हूँ

Read More

निगाहों में जिनकी हम…

ग़म तो जनाबइस बात का है कीनिगाहों में जिनकी हमताउम्र रहना चाहते थेउन्हें नज़रों से गिरने मेंज़्यादा वक़्त न लगाहम सपने बुनते रह गएऔर वो दबे पाओं दग़ा दे गए

Read More

पलटवार

यूँ बिन बताए आधी रात आनासब जान चुके हैंपरेशान हो चुके हैंअब शांत हो चुके हैंयूँ खिड़की से सीटियां मारनासब जान चुके हैंपरेशान हो चुके हैंअब हार चुके हैंवक़्त का खेल तो देखोकिस्मत पलटवार कर गयीअब जो जा चुकी हो तो सुनोख्यालों मेंयूँ बिन बताए न आया करोभूला चुका हूँ मैंहार चुका हूँ मैंयूँ दिलोदिमाग…

Read More

जो दास्ताँ…

जो दास्ताँ जुबां पर हैवह उन्हें बताते कैसेकहते भी तो क्यावो अपनाते उन्हेंगैरों के बीच जोरातें काटी हमनेउनके चौखट परअजनबी का दर्जान गवारा था हमेंज़िन्दगी बीत गयीदो पल की दिल्लगीके आस मेंऔर जो दास्ताँ जुबां पर थीबरसों हुए उन्हें भुलाये हमें

Read More

Micropoetry#72

Read More